Blogs

Blogs

The real definition of Yoga

योग: कर्मसु कौशलं योग (Yoga) शब्द संस्कृत के ‘ युज ‘ धातु से बना हैं जिसका अर्थ है, जोड़ना । अर्थात् किसी कार्य से जुड़ना। जीवन के मुख्य उद्देश्य की प्राप्ति के लिए मन से शरीर से जो अनुष्ठान करने होते है, वही योग हैं। महर्षि पतंजलि ने योग को… Read more »

Holi होली पर्व क्यों मानते है और इसका वैज्ञानिक महत्त्व क्या है ?

होली Holi पर्व क्यों मानते है और इसका वैज्ञानिक महत्त्व क्या है ? वास्तव मे इस पर्व का प्राचीनतम नाम वासन्ती नव सस्येष्टि है अर्थात् बसन्त ऋतु के नये अनाजों से किया हुआ यज्ञ, परन्तु Holi होली होलक का अपभ्रंश है। तृणाग्निं भ्रष्टार्थ पक्वशमी धान्य होलक: (शब्द कल्पद्रुम कोष) अर्धपक्वशमी… Read more »

आर्य समाज क्या है?

आर्य शब्द का अर्थ है श्रेष्ठ और प्रगतिशील। अतः आर्य समाज का अर्थ हुआ श्रेष्ठ और प्रगतिशीलों का समाज, जो वेदों के अनुकूल चलने का प्रयास करते हैं। दूसरों को उस पर चलने को प्रेरित करते हैं।      आर्यसमाजियों के आदर्श मर्यादा पुरुषोत्तम राम और योगीराज कृष्ण हैं। महर्षि दयानंद… Read more »

कन्यादान शब्द का वास्तविक अर्थ?

यह जो शब्द कन्यादान है इसका गुणगान बहुत सारे पण्डित बड़े जोर शोर से करते हैं । परन्तु यह बड़ी मजेदार बात है की ‘कन्यादान’ यह शब्द वैदिक और पौराणिक वाङ्मय में कही भी नहीं है। मैं कितने ही विवाह संस्कार करवाते समय यह पूंछता हूँ की क्या ‘कन्यादान‘ होना… Read more »

Agnihotra ( The Biggest Scientific research )

Agnihotra ( The Biggest Scientific research )

Agnihotra (यज्ञवै श्रेष्ठतम् कर्म) शंका: यज्ञ (Agnihotra) से धुँआ होता है जिससे वायु प्रदूषण बढ़ता है और ऑक्सीजन भी खर्च होती है। क्योकि कोई चीज तभी जलती है जब उसे ऑक्सीजन मिले। यज्ञ से प्रदूषण कदापि नही होता। जितना ऑक्सीजन खर्च होता है उससे कहीं ज्यादा बढ़ता है। प्रदूषण दूर… Read more »

error: Content is protected !!
!-- Global site tag (gtag.js) - Google Analytics -->