Blog

आर्य समाज क्या है?

आर्य शब्द का अर्थ है श्रेष्ठ और प्रगतिशील। अतः आर्य समाज का अर्थ हुआ श्रेष्ठ और प्रगतिशीलों का समाज, जो वेदों के अनुकूल चलने का प्रयास करते हैं। दूसरों को उस पर चलने को प्रेरित करते हैं।      आर्यसमाजियों के आदर्श मर्यादा पुरुषोत्तम राम और योगीराज कृष्ण हैं। महर्षि दयानंद… Read more »

कन्यादान शब्द का वास्तविक अर्थ?

यह जो शब्द कन्यादान है इसका गुणगान बहुत सारे पण्डित बड़े जोर शोर से करते हैं । परन्तु यह बड़ी मजेदार बात है की ‘कन्यादान’ यह शब्द वैदिक और पौराणिक वाङ्मय में कही भी नहीं है। मैं कितने ही विवाह संस्कार करवाते समय यह पूंछता हूँ की क्या ‘कन्यादान‘ होना… Read more »

Agnihotra ( The Biggest Scientific research )

Agnihotra (यज्ञवै श्रेष्ठतम् कर्म) शंका: यज्ञ (Agnihotra) से धुँआ होता है जिससे वायु प्रदूषण बढ़ता है और ऑक्सीजन भी खर्च होती है। क्योकि कोई चीज तभी जलती है जब उसे ऑक्सीजन मिले। यज्ञ से प्रदूषण कदापि नही होता। जितना ऑक्सीजन खर्च होता है उससे कहीं ज्यादा बढ़ता है। प्रदूषण दूर… Read more »

Satyarth Prakash

Satyarth Prakash: महर्षि दयानंद के सभी ग्रंथो में सत्यार्थप्रकाश प्रधान ग्रन्थ है । इसमें उनके सभी ग्रंथों का सारांश आ जाता है । जिन्होंने इस का गहराई से अध्ययन किया है उन्हें विदित है की इसमें कुल 377 ग्रंथों का हवाला है जिसमे 290 पुस्तकों के प्रमाण दिए गए है ।… Read more »

Arya Samaj Marriage Rituals

Arya Samaj Marriage Rituals Vivah Sanskar or marriage has the greatest significance among the sixteen ‘Sanskaras’ or sacraments of Vedic origin Arya Samaj Marriage Retuels . Arya Samaj wedding rites originate from the Vedas. They are devoid of idol worship. The rituals not only bind the bridegroom and the bride… Read more »

ईश्वर कौन है कहाँ है कैसा है ?

ईश्वर कौन है कहाँ है कैसा है ? इस संसार को और हमें बनाने वाला, जन्म देने वाला, पालन करने वाला व वृद्धावस्था आदि में मृत्यु को प्राप्त कर पुनर्जन्म प्राप्त कराने वाला वह सृष्टिकर्ता, पालक ईश्वर कैसा है? यह प्रश्न तो सरल है परन्तु इस प्रश्न का यथार्थ उत्तर… Read more »

error: Content is protected !!